विष्णुपुराण : न करें घर कि इन चीजों का व्यापार, अपराध समान है

भौतिकतावादी संसार में हर व्यक्ति लाभ कमाना चाहता है। आज की आधुनिक शिक्षा का एक मात्र लक्ष्य पैसे कमाना ही है। इसे आधुनिक शिक्षा का प्रभाव कहें या ज्ञान के आभाव की कभी-कभी ऐसा होता कि हम घर में रखी किसी चीज को चंद रुपयों के लालच में बेच देते हैं, लेकिन विष्णुपुराण में बताया गया है कि घर में रखी कुछचीजों को कभी भी नहीं बेचना चाहिए, चाहे आपको इसके लिए कितनी भी बड़ी कीमत क्यों न मिल रही हो।

आइए, जानते हैं उन 7 चीजों के बारे में


गाय का दूध

आधुनिक समय में डेरी उद्योग व्यापार की दृष्टि से काफी लाभकारी माना जाता है लेकिन विष्णुपुराण के अनुसार घर में उत्पन्न गाय के दूध को धन लाभ के लिए बेचना बेहद ही अधम कार्य है और इसे धूर्तता माना गया है. गाय का दूध बछड़ों के लिए होता है, मनुष्य उसे चंद रूपयों के लिए बेच देता है जिससे गाय और उसके बछड़े का मन व्यथित होता है।

गाय के दूध को धन लाभ के लिए बेचना बेहद ही अधम कार्य है



नमक

गरीब व्यक्ति को नमक बेचना भी विष्णुपुराण में बेहद अधम और नीच कार्य बताया गया है है, किन्तु यदि नमक का दान किया जाता है तो यह उत्तम कार्य है। घर में रखे नमक के लिए कभी भी कीमत नहीं वसूलनी चाहिए।

घर में रखे नमक के लिए कभी भी कीमत नहीं वसूलनी चाहिए

मांस बेचना

किसी भी जानवर का मांस बेचना भगवान विष्णु की नजरों में बहुत ही घृणित अपराध है। अपने भोजन के लिए भी किसी निर्दोष जीव का वध महापाप है। घर पर अगर आप किसी जीव को पाल रहे है तो उसे कभी भी कसाई को न बेचे।  किसी जानवर के जीवित या मृत शरीर का सौदा अत्यंत अधम और वर्जित है, इस कार्य को चाण्डालवृति के तुल्य माना जाता है।

घर पर अगर आप किसी जीव को पाल रहे है तो उसे कभी भी कसाई को न बेचे



घर में बना भोजन

घर में बना भोजन माँ अन्नपूर्णा के प्रसाद के तुल्य होता है। अगर आप घर में पके भोजन को लाभ कमाने के उद्देश्य से किसी व्यक्ति को बेचकर कीमत वसूलते हैं तो ये एक महापाप है। लेकिन यदि किसी भूखे व्यक्ति को आप वही भोजन बिना किसी धन लाभ के दें तो यह एक महानतम पूण्य है।
घर में बना भोजन माँ अन्नपूर्णा के प्रसाद के तुल्य होता है



लाल रंग के वस्त्र

घर में रखे लाल रंग के वस्त्र को बेचना बहुत अशुभ होता है। लाल रंग के वस्त्र सौभाग्य और समृधि का प्रतीक होती है इसलिए लाल रंग के वस्त्र कभी नहीं बेचने चाहिए। इससे घर की समृद्धि दूसरे घर में चली जाती है और आपको भविष्य में दरिद्रता का सामना करना पड़ता है।

लाल रंग के वस्त्र सौभाग्य और समृधि का प्रतीक



गुड़

विष्णुपुराण के अनुसार धन के लोभ में घर में रखे गुड़ को कभी नहीं बेचना चाहिए. गुड़ शुभता और मंगल का प्रतीक है। गुड़ की मिठास खुशहाली और हर्ष का प्रतीक माना जाता है इसलिए गुड़ को बेचने से घर के सुख और आनन्द पर बुरा प्रभाव पड़ता है जिससे अशांति और क्लेश का बढ़ता है।

गुड़ की मिठास खुशहाली और हर्ष का प्रतीक माना जाता है


सरसों का तेल

धन के लिए में सरसों का तेल भी नहीं बेचा जाना चाहिए। विशेष रूप से घर पर रखे सरसों के तेल का सौदा कभी नहीं करना चाहिए। सरसों का तेल का दान करना बहुत ही लाभकारी होता है और शनिवार के दिन सरसों के तेल का दान करना विशेष  रूप से फायदेमंद होता है।

सरसों का तेल