किडनी दुश्मन है आपकी की ये 7 खराब आदतें

kidney किडनी दुश्मन है आपकी की ये 7 खराब आदतें


हमारे शरीर में खून साफ करना, हार्मोन बनाना, मिनरल का अवशोषण, यूरीन बनाना, टॉक्सिन्स निकालना और एसिड का संतुलन बनाए रखने जैसे सारे जरूरी काम किडनी करती है। इससे आप समझ ही गए होंगे कि किडनी हमारे शरीर का कितना महत्वपूर्ण हिस्सा है। लेकिन अनजाने में आपकी कुछ आदतें आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा देती हैं। आइये जानते हैं हमारी जीवनशैली से जुड़ी ऐसी ही 7 खराब आदतों के बारे में जो हमारी किडनी को खराब कर सकती हैं।


कम पानी पीना

पानी हमारे शरीर की जरुरत है। पानी कम पीने से किडनी पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। किडनी खून साफ करती है और खराब चीजों को शरीर से अलग करती है जिसमें पानी की बड़ी भूमिका है। अगर आप पानी कम पियेंगे तो टॉकिन्स छनने के बजाय आपके शरीर में इकट्ठा होने शुरू हो जाएंगे।


ज्यादा मीठा खाना

ज्यादा मिठाई खाने की आदत भी आपकी किडनी के लिए नुकसानदायक हो सकती है। दरअसल, अधिक मीठी डाइट के सेवन से यूरीन से प्रोटीन निकलने लगता है। अगर आपके साथ ऐसा हो रहा है तो समझ लें कि आप किडनी से जुड़ी किसी समस्या से जूझ रहे हैं।




कार्बोनेटेडसाफ्ट ड्रिंक अधिक पीना

कोला-पेप्सी जैसे कार्बोनेटेडसाफ्ट ड्रिंक अधिक मात्रा में पीना भी किडनी से संबंधित समस्याओं को बढ़ा देता है। कार्बोनेटेड साफ्ट ड्रिंक में  मुख्यतः कार्बोनेटेड वाटर, अधिक मात्रा में शक्कर और कृत्रिम फ़्लेवर(स्वाद) होता है यद्यपि शक्कर किडनी के लिए दुष्प्रभावकारी है ही किन्तु इसमें मौजूद कार्बोनेट भी किडनी के लिए हानिकारक है कार्बोनेट पत्थरी के निर्माण में सहायक तत्व है अधिक मात्रा में  साफ्ट ड्रिंक लेने से पत्थरी की समस्या होना निश्चित है कार्बोनेटेड, शक्कर और कृत्रिम फ़्लेवर  से किडनी फेल होने जैसी दिक्कत भी हो जाती है।

अधिक पेनकिलर खाना

बात-बात पर पेनकिलर खाने से ‌भी किडनी पर गलत असर पड़ता है। किडनी की समस्या बहुत सी पेनकिलर का साइड इफ़ेक्ट से जुड़े रोगों के रूप में सामने आता है। इसलिए, पेनकिलर के दुरूपयोग से बचें और सिर्फ डॉक्टर की सलाह से ही दर्द  निवारक दवाएं  लें।

अधिक नमक का सेवन

कुछ लोग जरूरत से ज्यादा नमक का सेवन करते हैं। शायद वो नहीं जानते कि उनकी ये आदत उनकी किडनी की सेहत पर कितनी भारी पड़ सकती है। अधिक नमक लेने से शरीर में सोडियम बढ़ता है जिससे ब्लड प्रेशर प्रभावित होता है। इससे किडनी पर बल पड़ता है। इसलिए दिन में 5 ग्राम से अधिक नमक का सेवन न करें।


यूरीन प्रैशर को रोकना


यूरीन प्रैशर को रोकना

कुछ लोगों की आदत होती है कि वो यूरीन या पेशाब को रोक कर रखते हैं। यूरीन या पेशाब के प्रैशर को रोकना भी किडनी से संबंधित समस्याओं को बढ़ा देता है। इस गलत आदत से किडनी में पत्थरी या किडनी फेल होने जैसी दिक्कत भी हो जाती है।

जरूरत से कम नींद लेने से भी किडनी से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं।

कम नींद लेना

जरूरत से कम नींद लेने से भी किडनी से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। नींद के दौरान किडनी की कोशिकाओं में पहुंचने वाली क्षति की भरपाई होती है। नींद न लेने से मेटाबॉलिज्म भी प्रभावित होता है और किडनी फिट नहीं रहती। इसलिए कोशिश करें कि भरपूर नींद लें।




धूम्रपान एवं तम्बाकू सेवन

धूम्रपान एवं तम्बाकू के सेवन से कई गंभीर समस्याएं तो होती ही हैं (विशेषकर फेफड़े संबंधी रोग) लेकिन इसके कारण ऐथेरोस्कलेरोसिस रोग भी होता है। जिसकी वजह से रक्त नलिकाओं में रक्त का बहाव धीमा पड़ जाता है और किडनी में रक्त कम जाने से उसकी कार्यक्षमता घट जाती है। इसलिए धूम्रपान और तंबाकू का सेवन ना करें।